विज्ञापन
विज्ञापन
जन्मकुंडली से पाएं जीवन की सारी समस्याओं का हल
Kundali

जन्मकुंडली से पाएं जीवन की सारी समस्याओं का हल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

विज्ञापन
Digital Edition

गुजरात में 10 करोड़ रुपये के घोटाले में कोऑपरेटिव सोसायटी के चेयरमैन गिरफ्तार

गुजरात के खेड़ा जिले में एक कोऑपरेटिव सोसायटी के चेयरमैन को 10 करोड़ रुपये के घोटाले के मामले में भ्रष्टाचार निरोधी ब्यूरो (एसीबी) ने बृहस्पतिवार को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में गुजरात गोसेवा और गोचर विकास बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी तथा अन्य लोग शामिल हैं।

एसीबी ने कहा कि 10 करोड़ रुपये में से 1.01 करोड़ रुपये खेड़ा जिला स्थित कोऑपरेटिव सोसायटी आशापुरा मजूर कामदार सहकारी मंडली लिमिटेड के चेयरमैन नरेंद्र वाघेला ने हड़पे थे। बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी ने पिछले साल 10 करोड़ की रकम को कई कंपनियों को गैरकानूनी ढंग से भुगतान किया था। विस्तृत जांच के बाद वाघेला को बृहस्पतिवार को गिरफ्तार कर लिया गया।

नवंबर 2019 में एसीबी ने प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत गौसेवा बोर्ड के एनिमल हसबैंडरी यूनिट के तत्कालीन असिस्टेंट डायरेक्टर एसडी पटेल के खिलाफ 10.15 करोड़ रुपये के भुगतान को मंजूरी देने पर मामला दर्ज किया था। बोर्ड इम्प्रूविंग पॉश्चर लैंड (गौचर) और गोशालाओं के इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए विभिन्न योजनाओं पर काम करता है। ऐसे कार्यों के लिए पैसा लेने के लिए ग्रामीण पंचायतों और गोशाला मालिकों को बोर्ड के पास आवेदन करना होता है।

एसीबी ने कहा कि बिना चेयरमैन या किसी अन्य वरिष्ठ अधिकारी की मंजूरी के बिना ही पटेल ने 125 आवेदनों को मंजूरी दे दी और 10.15 करोड़ रुपये जारी कर दिए। पटेल अभी निलंबित चल रहे हैं। जांच के दौरान एसीबी को वाघेला की भूमिका का पता चला।

वाघेला ने पटेल की मदद से 1.01 करोड़ रुपये लिए थे। वाघेला ने अपनी कोऑपरेटिव सोसायटी को ठेकेदार कंपनी के तौर पर दिखाया था और दावा किया कि उसने खेड़ा जिले के 10 गांवों में गोचर सुधार कार्य पूरे किए हैं। उसने बोर्ड से उसकी योजना के तहत 1.01 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद मांगी।
... और पढ़ें

गुजरात: वाइफ स्वैपिंग के लिए दबाव बना रहा था पति, पत्नी ने उठाया यह कदम

गुजरात के अहमदाबाद शहर में वाइफ स्वैपिंग यानी पत्नियों की अदला-बदली का चौंकाने वाला एक मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि यहां रहने वाला एक शख्स अपनी पत्नी पर वाइफ स्वैपिंग के लिए दबाव बना रहा था। महिला ने पहले इनकार किया, लेकिन पति नहीं माना तो वह थाने पहुंच गई। पुलिस ने केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है। 

यह है पूरा मामला

पुलिस के मुताबिक, यह पूरा मामला अहमदाबाद के पॉश इलाके एसडी हाईवे रोड का है। यहां एक बंगले में रहने वाली महिला अहमदाबाद के महिला पश्चिम पुलिस थाने पहुंची। महिला ने बताया कि उसकी शादी करीब 14 साल पहले हुई थी और उनका आठ साल का बेटा भी है। महिला ने आरोप लगाया कि उसका पति महिला पर वाइफ स्वैपिंग के लिए दबाव डाल रहा है। वह अपने एक दोस्त के साथ अपनी पत्नी के संबंध बनवाना चाहता है। 

ऐसे सामने आई पति की हकीकत

महिला ने बताया कि कुछ महीने पहले उसे अपने पति के अफेयर के बारे में पता लगा। वह अपने एक दोस्त की पत्नी के साथ रिलेशन में है। महिला ने इस बात पर नाराजगी जताई तो घर में विवाद होने लगा। महिला का कहना है कि परिवार की मान-मर्यादा के चलते वह खामोश रही। 

पति ने दिया वाइफ स्वैपिंग का ऑफर

महिला का कहना है कि कुछ समय बाद उसका पति उस पर वाइफ स्वैपिंग के लिए दबाव बनाने लगा। पति ने वाइफ स्वैपिंग की बात इसलिए की, जिससे उसके दूसरी महिला के साथ संबंध बने रहें। पीड़िता ने साफ इनकार कर दिया, लेकिन पति उस पर लगातार दबाव बनाता रहा। बताया जा रहा है कि परेशान होकर महिला अपने बेटे के साथ मायके चली गई। इसके बाद भी पति अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। उसने फोन करके महिला को वाइफ स्वैपिंग के लिए मनाने की कोशिश की तो पीड़िता भड़क गई और पुलिस के पास पहुंच गई। 
... और पढ़ें

गुजरातः कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के बीच आज कच्छ में किसानों से बात करेंगे पीएम मोदी

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के बीच केंद्र सरकार और सत्तारूढ़ भाजपा इनके फायदों के बारे में बात करने के लिए सीधे किसानों के पास जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को खुद किसानों के बीच होंगे। वे एक दिवसीय दौरे पर गुजरात के कच्छ जा रहे हैं। जहां प्रधानमंत्री धोरडो में कई विकास परियोजनाओं का शिलान्यास करने के साथ कच्छ के कृषक समुदाय से संवाद करेंगे। 

प्रधानमंत्री गुजरात के सिख किसानों से भी मुलाकात करेंगे। एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई। बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री कुछ परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे और कच्छ में धोरडो के किसानों और कलाकारों के साथ संवाद करेंगे। मुख्य कार्यक्रम से पहले वह कच्छ के किसानों के साथ चर्चा करेंगे।


प्रधानमंत्री जिन परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे उनमें हाइब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा पार्क और स्वचलित दूध प्रसंस्करण और पैकिंग प्लांट शामिल हैं। इस मौके पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी मौजूद रहेंगे। प्रधानमंत्री सफेद रण का भी दौरा करेंगे। कच्छ के विघाकोट गांव में बनने वाला ऊर्जा पार्क देश का सबसे बड़ा नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादन पार्क होगा। 

राज्य के सूचना विभाग की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, भारत-पाक सीमा के पास बसे सिख किसानों को प्रधानमंत्री से संवाद के लिए आमंत्रित किया गया है। कच्छ जिले के लखपत तालुका में और इसके आसपास मिलाकर करीब 5,000 सिख परिवार रहते हैं।

उल्लेखनीय है कि नए कृषि कानूनों के विरोध में हजारों किसान पिछले दो सप्ताह से भी अधिक समय से दिल्ली की सीमाओं पर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार से किसान संगठनों की अब तक हुई बातचीत बेनतीजा रही है। प्रदर्शन करने वालों में बड़ी संख्या में पंजाब-हरियाणा के सिख किसान हैं। इसलिए माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री  किसानों से इस मुलाकात के जरिए सिख समुदाय और किसानों को संदेश देने की कोशिश करेंगे। 
... और पढ़ें

गुजरात: उच्च न्यायालय ने दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात की अनुमति देने से किया इनकार

गुजरात उच्च न्यायालय ने 13 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात कराने की इजाजत देने से इनकार कर दिया। फिर राज्य सरकार को उसके परिवार को भोजन और चिकित्सा खर्च के लिए एक लाख रुपये देने का निर्देश दिया। लड़की के परिवार ने इसकी अनुमति मांगी थी।

न्यायमूर्ति बी एन करिया ने डॉक्टरों की टीम की रिपोर्ट पर गौर करने के बाद लड़की को गर्भपात कराने की अनुमति देने से मना कर दिया। डॉक्टरों की टीम ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि भ्रूण 26 हफ्ते, चार दिन का है और सही देखभाल हो तो भ्रूण के ठीक रहने की संभावना है।

अदालत ने सोमवार को जारी आदेश में कहा कि गर्भ का चिकित्सकीय समापन संशोधन कानून, 2020 के तहत महिलाओं को 24 हफ्ते तक ही गभर्पात कराने की अनुमति है। उच्च न्यायालय ने नर्मदा जिले के राजपिपला में एक चिकित्सा केंद्र के अधिकारियों को पीड़िता का इलाज करने का भी निर्देश दिया।
... और पढ़ें
Gujarat High Court Gujarat High Court

गुजरात: नवसारी की झील में नौका पलटने से तीन बच्चों समेत पांच लोगों की मौत

गुजरात के नवसारी जिले की एक झील में एक नौका के पलटने से तीन बच्चों समेत पांच लोगों की डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने सोमवार को बताया कि यह हादसा उस समय हुआ जब बड़ी संख्या में लोग नाव पर चढ़ने की कोशिश कर रहे थे जबकि कुछ लोग उससे उतरने के प्रयास कर रहे थे।

पुलिस के मुताबिक, रविवार शाम भारी संख्या में लोग नाव से लगातार चढ़ने उतरने का प्रयास कर रहे थे। जबकि कुछ लोग उससे उतरने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने बताया कि इसमें तकरीबन 15 अन्य लोग घायल हुए हैं। घटना नवसारी के चिखली तालुका में एक पर्यटक स्थल सोलधरा इको प्वाइंट में एक झील में हुई।

जब कुछ पर्यटक इसमें चढ़ने की तथा कुछ इससे उतरने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने बताया कि दमकल विभाग के कर्मियों ने बचाव अभियान चलाया और देर रात तक पांच शव निकाले। अधिकारी ने बताया कि मरने वालों में 30 साल की एक महिला, उसके डेढ़ वर्ष तथा दस वर्ष उम्र के दो बच्चे, छह साल का एक बच्चा और 28 साल का एक युवक शामिल है।
... और पढ़ें

राम मंदिर के लिए शुरू हुआ धन संचय अभियान, इस हीरा कारोबारी ने किया 11 करोड़ का 'समर्पण'

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए गुजरात के हीरा कारोबारी गोविंदभाई ढोलकिया ने 11 करोड़ रुपये का चंदा दिया है। उन्होंने ये धनराशि अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए 14 जनवरी से शुरू हुए धन संचय अभियान के तहत दी। राम मंदिर के निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अलावा विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और आरएसएस भी देशभर में धन एकत्रित करने का अभियान चला रहे हैं। यह अभियान करीब डेढ़ महीने तक चलेगा। इसमें हर कोई अपनी इच्छाशक्ति के अनुसार चंदा दे सकता है।

आम आदमी से लेकर उद्योगपति कर रहे हैं दान
इसके तहत 27 फरवरी तक देशभर में करीब 13 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। इन परिवारों से चंदा इकट्ठा करने की योजना है। लोगों से जो भी रुपये मिलेंगे वो राम मंदिर निर्माण के लिए इस्तेमाल होंगे। इस अभियान में आम आदमी से लेकर उद्योगपति तक अपना योगदान दे रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात के व्यापारी गोविंदभाई ढोलकिया ने 11 करोड़ रुपये का चंदा दिया है। गोविंदभाई ढोलकिया, सूरत में हीरा के व्यापारी हैं और रामकृष्ण डायमंड के मालिक हैं। वे सालों से आरएसएस के साथ जुड़े हुए हैं। 1992 में हुई राम मंदिर पहल में वो भी शामिल थे।   

इच्छाशक्ति के अनुसार दे रहे हैं चंदा
उनके अलावा सूरत में केमिकल इन्डस्ट्रीज के लिए मशहूर महेश कबुतरवाला ने 5 करोड़ और लवजी बादशाह ने 1 करोड़ रुपए का दान दिया। वहीं, उत्तर प्रदेश के रायबरेली निवासी सुरेंद्र सिंह ने भी एक करोड़ रुपये का चंदा दिया है। इसके अलावा कई व्यापारियों ने 5 से लेकर 21 लाख रुपए का समर्पण दान दिया है। बीजेपी के गोरधन झडफिया और बीजेपी के कोषाध्यक्ष सुरेन्द्र पटेल ने भी राम मंदिर निर्माण के लिए 5-5 लाख रुपए का दान दिया है। 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने की अभियान की शुरुआत
बता दें, राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने के अभियान की शुरुआत 14 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने की। उन्होंने राम मंदिर के लिए सबसे पहले चंदा दिया और अभियान को हरी झंडी दिखाई। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चेक के जरिये पांच लाख रुपये का चंदा ट्रस्ट को सौंपा है।

... और पढ़ें

शादीशुदा प्रेमी नाराज हुआ तो प्रेमिका पहुंच गई घर, पत्नी के सामने बोली- मैं भी यहीं रहूंगी

अहमदाबाद में हाई-वोल्टेज ड्रामा तब हुआ जब पति-पत्नी के सामने वो आ गई। दरअसल, यहां के एक होटल में एक प्रेमिका अपने प्रेमी के जन्मदिन पर उससे मिलने पहुंची। सब कुछ अच्छा चल रहा था कि अचानक दोनों में किसी बात को लेकर विवाद हो गया। इससे प्रेमी गुस्से में आ गया और होटल छोड़कर अपने घर की ओर चल दिया। प्रेमी को इस बात की भनक भी नहीं लगी कि प्रेमिका उसका पीछा कर रही है। ऐसे में वो उसके घर धमक पड़ी। घर पहुंचते ही प्रेमिका ने प्रेमी की पत्नी के सामने सारी पोल पट्टी खोलकर रख दी और फिर जिद करने लगी कि अब वो इसी घर में दोनों के साथ रहेगी। इससे परेशान होकर प्रेमी की पत्नी ने पुलिस हेल्पलाइन से मदद मांगी। 

विजय और स्नेहा (बदले हुए नाम) अहमदाबाद के थलतेज में रहते हैं। उनकी शादी 3 साल पहले हुई थी। शादी के कुछ समय बाद ही विजय की किसी बात पर नाराज होकर स्नेहा अपने मायके चली गई थी। वह 6 महीने तक मायके में ही रही। इसी दौरान विजय की जान पहचान सूरत में रहने वाली ममता (बदला हुआ नाम) से हो गई। कुछ ही दिनों में दोनों का अफेयर शुरू हो गया।   

इस ड्रामे में ट्विस्ट तब आया जब इस बात का खुलासा हुआ कि ममता खुद भी शादीशुदा है और उसका एक बच्चा भी है। हालांकि, ये बात विजय को पहले से पता थी। दोनों ने अपने अवैध संबंधों की बात सभी से छुपाकर रखी थी, लेकिन झगड़े की वजह से इनका राज सामने आ गया। इस दौरान ममता विजय और स्नेहा के साथ ही उनके घर में ही रहने की जिद पर अड़ गई। 

स्नेहा के फोन के बाद पुलिस हेल्पलाइन की टीम घर पहुंची। टीम ने ममता को उसके शादीशुदा और एक बच्चे की मां होने का हवाला देते हुए समझाया। पुलिस ने उसे कहा कि अपने बच्चे के भविष्य के बारे में विचार कर तुम्हें अपने घर लौट जाना चाहिए। काफी समझाने के बाद आखिरकार ममता अपने घर जाने के लिए तैयार हुई।



 
... और पढ़ें

पीएम नरेंद्र मोदी ने मकर संक्रांति पर गुजराती में कविता लिख बयां की सूर्य की महिमा

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को मकर संक्रांति पर सूर्य की महिमा का बखान करते हुए अपनी मातृभाषा गुजराती में एक कविता लिखी और ट्विटर पर साझा की। इस कविता में मोदी ने सूर्य को रूपक बताते हुए संदेश दिया कि आज का दिन एक अथक प्रेमी के सम्मान का दिन है जो सभी के कल्याण के लिनए बिना अवकाश के लिए निरंतर यात्रा करता है।

पीएम मोदी ने इसके बाद एक और ट्वीट किया, आज सुबह मैंने गुजराती में एक कविता साझा की थी। कुछ साथियों ने इसका हिंदी में अनुवाद कर मुझे भेजा है। उसे भी मैं साझा कर रहा हूं। मोदी ने कहा, हालांकि अभी दुनिया के लोग कोरोना की समस्या से जूझ रहे हैं लेकिन फिर भी नए साल को लेकर लोगों में उम्मीदें हैं।  


पीएम मोदी की गुजराती कविता का हिंदी अनुवाद इस प्रकार है-

अंबर से अवसर
और
आंख में अंबर
सूरज का ताम समेटे...अंबर
चांदनी की शीतलता बिखेरे...अंबर
सम-विषम समाए...अंबर में
भेद-विभेद संग विवेक विशेष
जगमग तारे अंबर उपवन में
विराट की कोख में...अवसर की आस में
टिमटिमाते तारे तपते सूरज में
नीची उड़ान करे परेशान
ऊंची उड़ान साधे आसमान
हो कंकड़ या संकट
पत्थर हो या पतझड़
वसंत में...भी संत
विनाश में...है आस
समनों का अंबर
अंबर सी आस
गगन...विशाल
जगे विराट की आस
मार्ग...तप का
मर्म...आशा का
अविरत...अविराम
कल्याण यात्री...सूर्य
आज
तपते सूरज को, तर्पण का पल
शत शत नमन...शत शत नमन
सूरज देव को अनेक नमन।
- नरेंद मोदी
... और पढ़ें

पाबंदी के बावजूद गुजरात में शराब पीने वाली महिलाओं की संख्या दोगुनी हुई

गुजरात से शराब को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। गुजरात में शराबबंदी होने के बावजूद पिछले पांच वर्षों में शराब पीने वाली महिलाओं की संख्या में दोगुनी से अधिक हो गई है। जबकि शराब पीने वाले पुरुषों की संख्या घटकर आधी हो गई है। हाल ही में जारी राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस), 2019-20 की रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ है। गुजरात में वर्ष 1960 में शराब पर पाबंदी लगा दी गई थी।

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस-पांच) में गुजरात की कुल 33,343 महिलाओं और 5351 पुरुषों को शामिल किया गया। सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाली करीब 200 महिलाओं (0.6 प्रतिशत) ने दावा किया कि वह शराब पीती हैं। वहीं 2015 के एनएफएचएस सर्वे में 68 महिलाओं (0.3%) और 668 पुरुषों (11.1%) ने शराब पीने की बात मानी थी। 2015 में 6,018 पुरुषों और 22,932 महिलाओं का सर्वेक्षण किया गया था।

गुजरात में एनएफएचएस-चार में 22,932 महिलाओं और 5574 पुरुषों को शामिल किया गया था। हालांकि, दोनों सर्वेक्षणों की तुलना करने पर दिखता है कि पुरुषों में शराब उपभोग की दर आधी रह गई। वर्ष 2015-16 के सर्वेक्षण में 618 पुरुषों (5574 का 11.1 प्रतिशत) ने कहा था कि वे शराब पीते हैं जबकि हालिया सर्वेक्षण में 310 लोगों ने बताया कि वे मदिरा का सेवन करते हैं।

दोनों आंकड़ों की तुलना करने से पता चलता है कि 2015 में सिर्फ 0.1 फीसदी शहरी महिलाओं ने कहा कि वह शराब पीती हैं। वहीं 2020 के सर्वेक्षण में पाया गया कि 0.3 फीसदी महिलाओं ने शराब का सेवन किया। 2015 में शराब पीने वाले पुरुषों के मामले 10.6 फीसदी थे, जबकि 2020 में यह घटकर 4.6 फीसदी हो गया। ग्रामीण क्षेत्रों में शराब का सेवन करने वाली महिलाओं का प्रतिशत 2015 में 0.4 फीसदी से बढ़कर 2020 में 0.8 फीसदी हो गया। शराब पीने वाले पुरुषों की संख्या 2015 में 11.4 फीसदी से घटकर 2020 में 6.8 फीसदी हो गई है।

इसलिए बढ़ रही शराब पीने वाली महिलाओं की संख्या 
समाज विज्ञानी गौरांग जानी मद्यपान करने वाली महिलाओं की संख्या में वृद्धि का कारण ‘पार्टी संस्कृति’ को बढ़ावा और समाज में शराब उपभोग को मिल रही स्वीकार्यता को मानते हैं। उन्होंने कहा कि मध्यम वर्ग और उच्च मध्यवर्ग ने हालिया समय में पार्टी संस्कृति को बढ़ावा दिया है। इस कारण से परिवारों में महिलाएं भी शराब पीने लगी हैं। पहले पुरुष ही शराब पीते थे। अब परिवार की पार्टी में शराब पीने का चलन बढ़ा है।
... और पढ़ें

अहमदाबाद में स्थित साबरमती आश्रम नौ महीने बाद आगंतुकों के लिए खोला गया

गुजरात के अहमदाबाद में स्थित साबरमती आश्रम को नौ महीने बाद आगंतुकों के लिए खोल दिया गया है। आश्रम के निदेशक अतुल पांड्या ने मंगलवार को कहा, आश्रम में सामाजिक दूरी और कोविड- 19 प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जा रहा है। आश्रम को पिछले साल 20 मार्च को महामारी के कारण बंद कर दिया गया था।

हमने इसे एक बार फिर से आगंतुकों के लिए खोल दिया है। उन्होंने बताया, लोग सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे के बीच आश्रम आ सकते हैं। सामाजिक दूरी को बनाए रखने के लिए आश्रम के कर्मियों को तैनात किया है। अधिकारी ने बताया कि परिसर में सैनिटाइजर डिस्पेंसरों को 18 स्थानों पर लगाया गया है।

उन्होंने बताया कि फिलहाल संग्रहालय और हृदय-कुंज को खोला गया है जबकि किताब की दुकान, खादी की दुकान, चरखा गलियारा बंद रहेंगे। हृदय-कुंज वह कुटिया है जिसमें महात्मा गांधी अपनी पत्नी के साथ रहते थे। महामारी से पहले रोजाना करीब दो हजार सैलानी इस ऐतिहासिक स्थल को देखने आते थे।
... और पढ़ें

वायरल वीडियो: शेरनी पर हावी हुआ कुत्ता, भागकर बचानी पड़ी अपनी जान

जूनागढ़ जिले के दक्षिण-पूर्व में लगभग 65 किमी की दूरी पर स्थित गिर वन्यजीव अभ्यारण्य का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें एक शेरनी और कुत्ते की लड़ाई में कुत्ते की जीत हो जाती है। इस बात पर आपको विश्वास नहीं होगा, जब तक आप ये वीडियो देख नहीं लेते।  

गिर वन्यजीव अभयारण्य में बड़ी संख्या में शेर घूमते हुए देखे जा सकते हैं। यहां शेर-शेरनियां प्राकृतिक रूप से संरक्षित किए गए हैं। ये बात तो सभी को पता है कि जंगल में शेर-शेरनियों का राज चलता है, लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे सासण सफारी पार्क-2 के इस वीडियो में कुत्ते ने उल्टा शेरनी को ही खदेड़ डाला।    

इस वीडियो में दिख रहा है कि जब शेरनी और कुत्ते का आमना-सामने हुआ तब कुत्ता कभी भौंककर तो कभी खुद आक्रामक होकर झपट्टा मार रही शेरनी पर हावी हो जाता है। कुत्ते के इस आक्रामक रवैये को देखकर शेरनी शांत पड़ जाती है। इस वीडियो को जंगल सफारी के दौरान पर्यटकों ने रिकॉर्ड कर लिया, जो अब वायरल हो चुका है। 
 

 




भूखे होने पर शेर-शेरनी किसी भी जानवर को बिना समय गंवाए झट से अपना शिकार बना लेते हैं। हाथी जैसे बड़े और भारी-भरकम जानवरों को भी ये अपना शिकार आसानी से बना लेते हैं। ऐसे में एक शेरनी का एक कुत्ते से डर जाने के वीडियो को लोग काफी पसंद कर रहे हैं। साथ ही वे इसे लेकर सोशल मीडिया पर रोचक कमेंट्स कर रहे हैं।

दो मिनट के इस वीडियो को ट्विटर पर इंडियन फॉरेस्ट सर्विसेस के प्रवीण कासवान ने शेयर किया है, जिसे कई हजार बार देखा जा चुका है। कासवान ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, ‘जिंदगी में ऐसे ही आत्मविश्वास की जरूरत है। उन्होंने लिखा कि, यह कुत्तों और वन्यजीवों की बातचीत के मुद्दे को भी दिखाता है।

कुत्ते के आक्रामक रवैये और आत्मविश्वास के आगे शेरनी के पीछे हट जाने वाले इस वीडियो पर लोग काफी रोचक कमेंट भी कर रहे हैं। गुजरात के रिटायर्ड क्षेत्रीय वन अधिकारी बालकृष्ण दवे ने लिखा ‘जंगल का राजा कहलाने वाले यहां के सिंहों की आक्रामण और शिकार की क्षमता अब खत्म हो रही है, क्योंकि इन्हें तैयार खुराक परोसी जा रही है।’ एक ट्वीटर यूजर ने लिखा, ‘ये बेहतरीन उदाहरण है कि आकार मायने नहीं रखता बल्कि आपका आत्मविश्वास ज्यादा जरूरी है।’ कुछ और यूजर्स ने ये भी आशंका जताई कि शायद अभी शेरनी को भूख नहीं लगी थी, इसलिए उसने कुत्ते को जाने दिया। एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘आज पता चला कि अपनी गली के बाहर भी कुत्ता शेर होता है।’

 

... और पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को राजकोट में आवासीय परियोजना का करेंगे शुभांरभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केन्द्रीय लाइट हाउस प्रोजेक्ट (एलएचपी) के तहत राजकोट में बनाए जाने वाले ईडब्ल्यूएस श्रेणी के लोगों के वास्ते 1,144 मकानों की शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आधारशिला रखेंगे। यहां जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में राजकोट में उपस्थित होंगे।

इसमें कहा गया है कि हरित निर्माण तकनीक का उपयोग कर शहरी गरीबों को आश्रय प्रदान करने संबंधी एलएचपी परियोजना के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिए मकान बनाए जा रहे हैं। एलएचपी परियोजना के तहत, केंद्र सरकार छह शहरों- इंदौर, चेन्नई, रांची, अगरतला, लखनऊ और राजकोट में 1000-1000 से अधिक मकानों का निर्माण करेगी।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि समारोह के दौरान, केंद्र सरकार गरीबों को मकान उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना में राज्य के प्रदर्शन के लिए विभिन्न श्रेणियों के तहत गुजरात को पुरस्कार भी प्रदान करेगी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X